हम लोगों की सोच हो चुकी है की बेटी नहीं चाहिए अगर बेटी हो भी जाती है तो उसे पढ़ाने लिखाने का जिम्मेदारी नहीं लेना चाहते हैं

कई सारे लोग पैदा होने से पहले ही मार देना चाहते हैं जिसकी वजह से लड़की की जनसंख्या काफी तेजी से कम होते हुए देखा जा रहा है। 

इन्हीं सब चीजों को देखते हुए यूपी सरकार ने भाग्यलक्ष्मी योजना शुरू किया है जिसके अंतर्गत राज्य सरकार गरीब परिवार में लड़की जन्म लेने पर ₹50000 की मदद मिलेगी।

इतना ही नहीं ऊपर से माताओं को भी 5100 रुपए अलग से दिया जाएगा। 

अगर आप भी इस योजना का लाभ उठाना चाहते हैं तो इस पोस्ट को अंत तक जरूर पढ़ें तभी आप जान पाएंगे कैसे क्या करना है। 

इस योजना के अंतर्गत जितने भी उत्तर प्रदेश के गरीब परिवार हैं सभी परिवार आवेदन कर सकते हैं। 

इस आवेदन करने में यह भी कहा गया है जिस परिवारों मैं 2 लाख रुपए से अधिक वार्षिक आमदनी ना हो। 

इस योजना के पैसा को यूपी सरकार बेटी की 18 वर्ष होने तक कई किश्तों में प्रदान करते हैं अगर आपके यहां भी बेटी हुई है तो आपको ₹50000 पाना चाहते हैं तो आवेदन जरूर करें। 

भाग्यलक्ष्मी योजना में आवेदन करने के लिए पात्रता जरूर जान लें। 

बेटी की माता पिता को उत्तर प्रदेश का मूल निवासी होना जरूरी है. बच्ची की माता का विवाह कम से कम 18 वर्ष में हुआ हो

बच्ची को किसी भी प्रकार के बीमारी से ग्रसित नहीं होनी चाहिए। 

2006 के जनगणना के अनुसार गरीबी रेखा में जीवन यापन कर रहे परिवार को इस योजना का लाभ जरूर मिलेगा।

अब बात करते हैं यूपी भाग्यलक्ष्मी योजना में आवेदन करने के लिए जरूरत कागजात क्या-क्या लगेगा। 

माता पिता का आधार कार्ड राशन कार्ड निवास प्रमाण पत्र आय प्रमाण पत्र पासपोट साइज फोटो

जाति प्रमाण पत्र बच्ची का जन्म प्रमाण पत्र बैंक खाता पासबुक मोबाइल नंबर

अब बात आती है यूपी भाग्यलक्ष्मी योजना में आवेदन करने की क्या क्या प्रक्रिया है।