हम सभी जानते हैं दिल्ली हरियाणा में वायु प्रदूषण बहुत चाहता है जिससे सभी लोगों को बहुत ज्यादा परेशानी भी झेलना पड़ रहा है

हम सभी जानते हैं दिल्ली हरियाणा में वायु प्रदूषण बहुत चाहता है जिससे सभी लोगों को बहुत ज्यादा परेशानी भी झेलना पड़ रहा है

इसके लिए किसानों को खेतों में जो धान की पराली बजती है उसको जलाना पड़ता है जिससे वहां के आसपास जगह पर वायु प्रदूषण काफी ज्यादा बढ़ जाता है

इसके लिए किसानों को खेतों में जो धान की पराली बजती है उसको जलाना पड़ता है जिससे वहां के आसपास जगह पर वायु प्रदूषण काफी ज्यादा बढ़ जाता है

इसलिए सरकार ने एक ऐसी योजना चलाई है जिसमें किसान प्रणाली को सरकारों को बेच सकते हैं उसके बदले सरकार उन्हें प्रोत्साहन राशि भी देगी। 

इसलिए सरकार ने एक ऐसी योजना चलाई है जिसमें किसान प्रणाली को सरकारों को बेच सकते हैं उसके बदले सरकार उन्हें प्रोत्साहन राशि भी देगी। 

क्योंकि हरियाणा सरकार चाहती है कि कम से कम वायु प्रदूषण होता के लोगों को प्रदूषण की वजह से अनेक बीमारियों का सामना ना करना पड़े। 

क्योंकि हरियाणा सरकार चाहती है कि कम से कम वायु प्रदूषण होता के लोगों को प्रदूषण की वजह से अनेक बीमारियों का सामना ना करना पड़े। 

अब बात करते हैं हरियाणा पराली प्रोत्साहन योजना का लाभ क्या क्या है। 

अब बात करते हैं हरियाणा पराली प्रोत्साहन योजना का लाभ क्या क्या है। 

दोस्तों देखा जाए तो सभी योजनाएं का लाभ बहुत अच्छे होते हैं इस योजना का भी लाभ काफी अच्छा है  शुरू की है। 

दोस्तों देखा जाए तो सभी योजनाएं का लाभ बहुत अच्छे होते हैं इस योजना का भी लाभ काफी अच्छा है  शुरू की है। 

जैसे कि सरकार पराली  खरीद कर उसके बदले प्रोत्साहित राशि देने की योजना

जैसे कि सरकार पराली  खरीद कर उसके बदले प्रोत्साहित राशि देने की योजना 

दूसरी बात है इस योजना के अंतर्गत किसानों की आमदनी होगी और अपने परिवारों वाले को खुश रख पाएंगे। 

दूसरी बात है इस योजना के अंतर्गत किसानों की आमदनी होगी और अपने परिवारों वाले को खुश रख पाएंगे। 

साथ में है सरकार हरियाणा के किसानों से पराली खरीद कर उन्हें एक हजार प्रति एकड़ के हिसाब से पैसों की भी मदद करेगी। 

साथ में है सरकार हरियाणा के किसानों से पराली खरीद कर उन्हें एक हजार प्रति एकड़ के हिसाब से पैसों की भी मदद करेगी। 

अगर आप हरियाणा के किसान है तो पराली का बंधक बनाकर उसे भेज सकते हैं इसके बदले में किसानों को 1,000 रुपए प्रति एकड़ या ₹50 प्रति क्विंटल रुपए दी जाएगी। 

अगर आप हरियाणा के किसान है तो पराली का बंधक बनाकर उसे भेज सकते हैं इसके बदले में किसानों को 1,000 रुपए प्रति एकड़ या ₹50 प्रति क्विंटल रुपए दी जाएगी। 

हरियाणा सरकार मैं यह भी बताया कि अब ऐसी कई कंपनियां आ रही हैं जो पराली खरीद कर किसानों को अच्छे कीमत देने को तैयार है। 

हरियाणा सरकार मैं यह भी बताया कि अब ऐसी कई कंपनियां आ रही हैं जो पराली खरीद कर किसानों को अच्छे कीमत देने को तैयार है। 

अब सिर्फ किसानों को सोचना है कि इसका लाभ उठाया जाए या नहीं। 

अब सिर्फ किसानों को सोचना है कि इसका लाभ उठाया जाए या नहीं। 

अब बात आती है पराली बेचने के ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कैसे करें। 

अब बात आती है पराली बेचने के ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कैसे करें। 

अगर किसान को प्रमाण पत्र है तो ऑनलाइन पोर्टल में जाए उसके लिए ऑनलाइन पोर्टल पर क्लिक करें। 

अगर किसान को प्रमाण पत्र है तो ऑनलाइन पोर्टल में जाए उसके लिए ऑनलाइन पोर्टल पर क्लिक करें। 

उसके बाद इस पोर्टल में सबसे पहले किसान को प्रणाली की गांठ के लिए पंजीकरण कराना होगा। 

उसके बाद इस पोर्टल में सबसे पहले किसान को प्रणाली की गांठ के लिए पंजीकरण कराना होगा। 

फिर यहां किसानों को कुल धान का रकबा प्रबंधन रखवा और खाता नंबर की जानकारी देनी होगी। 

फिर यहां किसानों को कुल धान का रकबा प्रबंधन रखवा और खाता नंबर की जानकारी देनी होगी। 

हरियाणा ग्राम पंचायत द्वारा तैयार की गई कमेटी इन किसानों द्वारा दी गई जानकारी को देखेंगे उसके बाद ही जिला स्तरीय कमेटी के पास यह सारी जानकारी भेजी जाएगी।

हरियाणा ग्राम पंचायत द्वारा तैयार की गई कमेटी इन किसानों द्वारा दी गई जानकारी को देखेंगे उसके बाद ही जिला स्तरीय कमेटी के पास यह सारी जानकारी भेजी जाएगी।

अगर सभी चीजें सही है तो जिला स्तरीय कमेटी के देखने के बाद आप लोगों का प्रोत्साहन राशि किसानों के खाते में आ जाएगी। 

अगर सभी चीजें सही है तो जिला स्तरीय कमेटी के देखने के बाद आप लोगों का प्रोत्साहन राशि किसानों के खाते में आ जाएगी।