आपलोगो को बता दूँ राशन कार्ड बनवाने को लेकर बने नियम बदल गए हैं.

आपलोगो को बता दूँ राशन कार्ड बनवाने को लेकर बने नियम बदल गए हैं.

अब नए नियमों के अनुसार हर किसी को राशन कार्ड नहीं दिया जाएगा 

अब नए नियमों के अनुसार हर किसी को राशन कार्ड नहीं दिया जाएगा 

राशन कार्ड वाली लिस्ट से अपात्र लोगों को अलग किया जाएगा.  

राशन कार्ड वाली लिस्ट से अपात्र लोगों को अलग किया जाएगा.  

आज इस पोस्ट में इस टॉपिक पर बात होगी तो बने रहे इस पोस्ट में अंत तक। 

आज इस पोस्ट में इस टॉपिक पर बात होगी तो बने रहे इस पोस्ट में अंत तक। 

– जो लोग गरीबी रेखा से ऊपर हैं 

– जो लोग गरीबी रेखा से ऊपर हैं 

– जो इनकम टैक्स देते हैं 

– जो इनकम टैक्स देते हैं 

– जिनके परिवार का एक भी सदस्य सरकारी सेवा में है

– जिनके परिवार का एक भी सदस्य सरकारी सेवा में है

– जिनकी सालाना आय 3 लाख रुपए से अधिक है.

– जिनकी सालाना आय 3 लाख रुपए से अधिक है.

– जिनके पास खुद का 100 वर्ग मीटर का प्लॉट, मकान या फ्लैट है.

– जिनके पास खुद का 100 वर्ग मीटर का प्लॉट, मकान या फ्लैट है.

– ऐसे लोग पास किसी हथियार का लाइसेंस है.

– ऐसे लोग पास किसी हथियार का लाइसेंस है.

– जिन्होंने ट्रैक्टर या कोई अन्य वाहन खरीद है.

– जिन्होंने ट्रैक्टर या कोई अन्य वाहन खरीद है.

दोस्तों ,आपलोगो को बता दू सरकार ने चेतावनी दी है कि यदि अयोग्य होते हुए भी किसी ने राशन कार्ड सरेंडर नहीं किए तो कार्रवाई होगी 

दोस्तों ,आपलोगो को बता दू सरकार ने चेतावनी दी है कि यदि अयोग्य होते हुए भी किसी ने राशन कार्ड सरेंडर नहीं किए तो कार्रवाई होगी 

राशन कार्ड तहसील या डीएसओ कार्यालय में सरेंडर किया जा सकता है.

राशन कार्ड तहसील या डीएसओ कार्यालय में सरेंडर किया जा सकता है.

केवल ऐसे लोग ही रख सकेंगे राशन कार्ड (Ration Card)

केवल ऐसे लोग ही रख सकेंगे राशन कार्ड (Ration Card)

– जो दिहाड़ी मजदूर हैं.

– जो दिहाड़ी मजदूर हैं.

– जो घरेलू काम-काज कर अपना जीवनयापन करते हैं.

– जो घरेलू काम-काज कर अपना जीवनयापन करते हैं.

– ड्राईवर और कुलीगिरी करने वाले लोग.

– ड्राईवर और कुलीगिरी करने वाले लोग.

– भीख मांगने वाले या कूड़ा-करकट बीनने वाले

– भीख मांगने वाले या कूड़ा-करकट बीनने वाले

– जिनके पास खुद का मकान नहीं है अथवा जो कच्ची झोपड़ियों में रहते हैं.

– जिनके पास खुद का मकान नहीं है अथवा जो कच्ची झोपड़ियों में रहते हैं.

– राज्य सरकार द्वारा चिह्नित किए गए लोग.

– राज्य सरकार द्वारा चिह्नित किए गए लोग.

– भूमिहीन कृषक तथा श्रमिक

– भूमिहीन कृषक तथा श्रमिक